« मुख्य पृष्ठ | हिन्दुस्तानी नेता » | वो जमीं का टुकड़ा ... » | मैं साहित्यकार हूँ ॰॰॰ » | छुआछुत ॰॰॰ » | मेरा भारत महान है ... » | सिंदूर ... एक ढोंग » | दिल के चंद सवाल ... » | अस्तीत्व... » | मै इंतजार करूंगा. . . » | विरोधाभास... »

कुछ हाइकु ॰॰॰

दोस्तों, आज हिंदी साहित्य में हाइकु की भरपूर चर्चा हो रही है, सो मैने भी कुछ प्रयास किया है।
॰॰॰॰ प्रितम के लिए ॰॰॰॰
खुबसुरत तेरी आंखे सबसे मनमोहक
आपकी आँखे पतझड़ में खिला जैसे सुमन
तेरा चेहरा खुबसुरत जैसे मेरा हाइकु
आपको देखा हलक से निकला मेरा हाइकु
मेरी बगीया आओ फिर महके तुम प्रितम
यकिं है तभी करता इंतजार तुम आओगे
॰॰॰॰ हे आरक्षण ॰॰॰॰
पेट में कैंची भूल गये साहब हे आरक्षण
दो व दो पांच सिखाते माड़साब हे आरक्षण
वोट बैंक को ललचाते नेताजी लो आरक्षण
सुनाते जज आरक्षक को फांसी हे आरक्षण
चोर डकेत बन गए सांसद हे आरक्षण
॰॰॰॰ देश की दशा ॰॰॰॰
गेंद व बल्ला सौ करोड़ मिलके करते हल्ला
खा रहे देश मिलकर सांसद जनता मौन
बनेगी दिल्ली गरीबो की कीमत मानो पेरिस
आस में बैठा निकलेगा सूरज वो राजस्थानी
(राजस्थान में बाढ़ का आलम है।)

रात अंधेरी बिकने को तैयार पैसों से प्यार

॰॰॰॰ नारी ॰॰॰॰

बेचदी हया अब तु बोल कैसे नारी अबला

तोड़ मर्यादा दिखा रही बदन आज की नारी

दिखा आबरू जीत रही मैडल मिस बिकनी

रह रहकर कब लौटेगी सीता पुछता दिल

॰॰॰॰ चलते-चलते यूंही ॰॰॰॰
जरा सी छींक चार दिन की छुट्टी बहाना रेडी
सब उदास हो गया है जब से कुत्ता बिमार

पढ़ा इसे तो निकला ज़िगर से मेरा हाइकु

अब समझा मुश्किल है कैसे लिखना हाइकु
मैं हीरा तो हूँ मगर जमीं तले तराशे कौन

कवि अकेले जी,
आपने भी खूब कही,
ये मात्र कुछ हाइकु नहीं
पूरी खान है,
हाईकु लिखना अपने आप में
विद्वत्ता की पहचान है.
-रेणू आहूजा.

क्या और किन शब्दों में अकेला जी आपकी कविता के रस को प्रकट करू. शब्दो के करामाती को यही प्रेशानी रहती होगी कि उसके लिखे पर कोई कैसे लिखे? बौने पन के अह्सास से अपनी लेखनी को शर्माते देख कुछ लिखते नही बन पडता. कमाल की गहरायी है, इतनी गहरायी में अकेला पन तो रहेगा ही. थोडा गहरायी से उपर आइये बहुत रोशनी मिलेगी. ये "खूबसूरत" कितनी "खूबसूरत" है? शायद बहुत जायदा... मुबारक हो.
महेंद्र

एक टिप्पणी भेजें

स्थाई कड़ियाँ

एक लिंक बनाएँ

मेरा परिचय

  • नाम : गिरिराज जोशी
  • ठिकाना : नागौर, राजस्थान, India
  • एक खण्डहर जो अब साहित्यिक ईंटो से पूर्ननिर्मित हो रहा है...
मेरी प्रोफाईल

पूर्व संकलन

'कवि अकेला' समुह

'हिन्दी-कविता' समुह

धन्यवाद

यह चिट्ठा गिरिराज जोशी "कविराज" द्वारा तैयार किया गया है। ब्लोगर डोट कोम का धन्यवाद जिसकी सहायता से यह संभव हो पाया।
प्रसिद्धी सूचकांक :