« मुख्य पृष्ठ | मै इंतजार करूंगा. . . » | विरोधाभास... » | गज़ल » | मां का प्यार » | शत-शत नमन! »

अस्तीत्व...

एक हरा भरा पत्ता जो कभी ओंस की बूंदो के संग नहाता था टहनी से चिपका ठण्डी हवाओं के संग अठखेलियां किया करता था तेज धूप को अपने आंचल मे समेटकर राहगीर को ठण्डी छांव देता था तो कभी बूंदे गिरा-गिराकर उन्हें परेशान किया करता था ये सारे उसके जीवन के बसंती क्षण थे जिन्हे वो हंस-हंसकर जिया करता था कल क्या होगा...? कल कहां हो़गा...? इन प्रश्नों से बेखबर रहा करता था मगर जिस डाली के सहारे वो इतना इतराया करता था एक दिन उसी ने नाता तोड लिया भरी दुनियां मे 'अकेला' छोड दिया पत्ता बेचारा कुछ समझ ना पाया क्या हुआ...? कैसे हुआ...? इन सवालों मे उलझ गया पड़ा रहा वहीं; उसी पौधे के पैरों में बेसहारा समझकर खुद को सहारे को तरसता रहा मगर कुछ दिनो बाद जब आंसू भी सूख गये; खुद भी सूख गया एक हवा का झोंका आया और वो भी संग बह गया कुछ दिनों तक भटकता रहा यूं ही इधर-उधर बेरूखी हवा के संग बहता रहा फ़िर एक दिन उसने सोचा उसका अपना अस्तीत्व क्या है...? उसका अपना वजूद क्या है...? और उसने निश्चय कर लिया अब नहीं भटकेगा इधर-उधर और डटकर खड़ा हो गया अंगद की तरह आज वो पेड़ बन चूका है उसकी डालियों पर कुछ हरे-भरे पत्ते उसी तरह अठखेलियां करते है जैसे वो किया करता था मगर अब वो कर रहा है ... इंतज़ार उस क्षण का जब वो भेजेगा अपने ज़िगर के टुकड़ो को अपने से दूर अस्तीत्व की तलास में क्योंकि अब वो जान चूका है ... अपने पैरों पर खड़े होने का मतलब क्या है . . .

स्थाई कड़ियाँ

एक लिंक बनाएँ

मेरा परिचय

  • नाम : गिरिराज जोशी
  • ठिकाना : नागौर, राजस्थान, India
  • एक खण्डहर जो अब साहित्यिक ईंटो से पूर्ननिर्मित हो रहा है...
मेरी प्रोफाईल

पूर्व संकलन

'कवि अकेला' समुह

'हिन्दी-कविता' समुह

धन्यवाद

यह चिट्ठा गिरिराज जोशी "कविराज" द्वारा तैयार किया गया है। ब्लोगर डोट कोम का धन्यवाद जिसकी सहायता से यह संभव हो पाया।
प्रसिद्धी सूचकांक :