« मुख्य पृष्ठ | मेरे बिखरे शब्दों की समीक्षा - ४ » | पाँच शेर - प्रथम भाग » | हाय रे "ब्लॉगस्पॉट", ये तुने क्या किया??? » | दीपावली की ढ़ेरों शुभकामनाएँ!!! » | "हेलो फोटो टेस्टिग" » | लेने दो श्वांस फुरसतिया भाई... » | फुरसतियाजी क्षमा करें। » | मेरे बिखरे शब्दों की समीक्षा - ३ » | मेरे बिखरे शब्दों की समीक्षा - २ » | जय हास्य, जय नेता!!! - २ »

पाँच शेर - भाग २

इसे यहाँ पढ़ें

पहले दो शेर प्रसंशनिय हैं.

आपने तो आते ही ५ शेर मार लिए
अच्छे शेर हैं पर त्रिवेणी कब निकलेगी।

त्रिवेणी की मांग मैं भी करता हूं, कविराज!

कोई बात नही गिरिराज भाई अकसर तकनीकी हालात सबके साथ पेश आते हैं।
मुझे तो सभी शेर पसंद आए (ये मज़ाक नही)

पत्थर से आदमी के ये रिश्ते अजीब हैं
ठोकर किसी ने मारी , कोई जल चढ़ा गया

क्‍या अर्ज किया है। वाह

एक टिप्पणी भेजें

स्थाई कड़ियाँ

एक लिंक बनाएँ

मेरा परिचय

  • नाम : गिरिराज जोशी
  • ठिकाना : नागौर, राजस्थान, India
  • एक खण्डहर जो अब साहित्यिक ईंटो से पूर्ननिर्मित हो रहा है...
मेरी प्रोफाईल

पूर्व संकलन

'कवि अकेला' समुह

'हिन्दी-कविता' समुह

धन्यवाद

यह चिट्ठा गिरिराज जोशी "कविराज" द्वारा तैयार किया गया है। ब्लोगर डोट कोम का धन्यवाद जिसकी सहायता से यह संभव हो पाया।
प्रसिद्धी सूचकांक :